Lala Lajpat Rai Biography Jayanti in Hindi 2023: लाला लाजपत राय का जीवन परिचय | Full Information

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti

लाला लाजपत राय का जीवन परिचय, जन्म, जीवनी, मृत्यु कैसे हुई, निबंध, किताबें, नारा, राजनितिक विचार, गुरु कौन थे 2023: (Lala Lajpat Rai Biography and Jayanti in Hindi) (Famous for, Award, Death, Slogan)

 

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti: भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के नायकों में से एक और लाल, बाल, पाल की तिकड़ी के प्रसिद्ध नेता लाला लाजपत राय का जीवन आज भी युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्रोत बना हुआ है। उन्होंने न केवल स्वतंत्रता संग्राम के दौरान नेतृत्व किया, बल्कि अपने जीवन उदाहरणों के माध्यम से एक आदर्श राजनेता में जिस आदर्श की कल्पना की जाती है, उसे स्थापित करने में भी सफल रहे।

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti
Lala Lajpat Rai Biography Jayanti

लाला लाजपत राय का जीवन परिचय (Lala Lajpat Rai Biography in Hindi)

पूरा नामलाला लाजपत राय
अन्य नामपंजाब केसरी
पेशालेखक, स्वतंत्रता सैनानी, राजनीतिज्ञ
प्रसिद्धब्रिटिश साइमन कमीशन के खिलाफ विरोध
पार्टीभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
संगठनहिन्दू महासभा, ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस, सर्वेन्ट्स ऑफ़ द पीपल सोसाइटी
जन्म28 जनवरी, 1865
जन्म स्थानधुदिके, लुधिआना, पंजाब, ब्रिटिश भारत
मृत्यु17 नवंबर, 1928
मृत्यु स्थानलाहौर, पंजाब, ब्रिटिश इंडिया
उम्र63 साल
मृत्यु कारणलाठी चार्ज में गंभीर रूप से घायल होने पर
राष्ट्रीयताब्रिटिश भारतीय
होमटाउनलुधिआना, पंजाब
जातिअग्रवाल, जैन
वैवाहिक स्थितिविवाहित
विवाहसन 1877 में

लाला लाजपत राय का जन्म, परिवार, शुरुआती जीवन (Lala Lajpat Rai Birth, Family, Early Life)

पिता का नाममुंशी राधाकृष्ण अग्रवाल
माता का नामगुलाब देवी अग्रवाल
भाईलाला धनपत राय
पत्नीराधा देवी अग्रवाल
बेटेप्यारेलाल अग्रवाल एवं अमृत राय अग्रवाल
बेटीपार्वती अग्रवाल

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  लाला लाजपत राय का जन्म 28 जनवरी, 1865 को पंजाब के मोगा में एक साधारण परिवार में हुआ था। उनके पिता लाला राधाकृष्ण एक शिक्षक थे। इसका असर लाजपत राय पर भी पड़ा। अपने शुरुआती दिनों से, वह एक प्रतिभाशाली छात्र थे और अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, उन्होंने वकालत की ओर रुख किया। वह एक उत्कृष्ट वकील बन गए और कुछ समय के लिए वकालत की, लेकिन जल्द ही उनका मन इस काम से परेशान हो गया। अंग्रेजों की न्याय व्यवस्था के खिलाफ उनके मन में गुस्सा था। उन्होंने उस प्रणाली को छोड़ दिया और बैंकिंग में बदल गए।

लाला लाजपत राय बैंकर, बीमाकर्मी और गरम दल के नेता (Lala Lajpat Rai Banker, Politician)

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  उन्होंने अपनी आजीविका कमाने के लिए बैंकिंग का नवाचार किया। उस समय भारत में बैंक ज्यादा लोकप्रिय नहीं थे, लेकिन उन्होंने इसे एक चुनौती के रूप में लिया और पंजाब नेशनल बैंक और लक्ष्मी इंश्योरेंस कंपनी की स्थापना की। उनकी निर्भीकता और जोशीले स्वभाव के कारण उन्हें पंजाब केसरी की उपाधि से नवाजा गया। बाल गंगाधर तिलक के बाद, वह पूर्ण स्वराज की मांग करने वाले पहले नेताओं में से एक थे।

लाला लाजपत राय आर्य समाज और डीएवी (Lala Lajpat Rai Aarya Samaj and DAV)

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  प्रखर स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ-साथ लाला जी का झुकाव भारत में तेजी से फैल रहे आर्य समाज आंदोलन की ओर भी था। परिणामस्वरूप, उन्होंने जल्द ही महर्षि दयानंद सरस्वती के साथ इस आंदोलन को आगे बढ़ाने का काम किया। आर्य समाज भारतीय हिन्दू समाज में फैली कुरीतियों और धार्मिक अंधविश्वासों पर प्रहार करता था और वेदों की ओर लौटने की अपील करता था। लाला जी ने उस समय लोकप्रिय जनता के खिलाफ खड़े होने की हिम्मत की। यह वह दौर था जब आर्य समाजियों को धर्म विरोधी माना जाता था, लेकिन लाला जी ने इसकी जरा भी परवाह नहीं की।

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  उन्होंने भारतीय शिक्षा के क्षेत्र में एक और और अधिक महत्वपूर्ण कार्य किया। अब तक, भारत में पारंपरिक शिक्षा का वर्चस्व था। जिसमें शिक्षा का माध्यम संस्कृत और उर्दू था। अधिकांश लोग शिक्षा से वंचित थे जो यूरोपीय शैली या अंग्रेजी प्रणाली पर आधारित थी। आर्य समाज ने इसी दिशा में दयानंद एंग्लो वैदिक स्कूलों की शुरुआत की, जिसके प्रसार और प्रसार के लिए लाला जी ने हर संभव प्रयास किया। बाद में, पंजाब अपने उत्कृष्ट डीएवी स्कूलों के लिए जाना जाने लगा। इसमें लाला लाजपत राय का योगदान अविस्मरणीय था।

शिक्षा के क्षेत्र में उनकी दूसरी महत्वपूर्ण उपलब्धि लाहौर के डीएवी कॉलेज में हुई। उन्होंने इस कॉलेज को उस समय भारत की सर्वश्रेष्ठ शिक्षा के केंद्र में बदल दिया। यह कॉलेज उन युवाओं के लिए वरदान साबित हुआ, जिन्होंने असहयोग आंदोलन के दौरान अंग्रेजों द्वारा चलाए जा रहे कॉलेजों को धता बता दिया था। उनमें से अधिकांश की शिक्षा की व्यवस्था डीएवी कॉलेज ने की।

कांग्रेस और लाजपत राय (Lala Lajpat Rai and Congress)

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल होना लाला जी के जीवन की सबसे महत्वपूर्ण घटना थी। 1888 में इलाहाबाद में कांग्रेस का वार्षिक अधिवेशन हुआ और यह पहला मौका था जब लाला लाजपत राय को इस संगठन में शामिल होने का मौका मिला। अपने शुरुआती दिनों में, उन्होंने एक उत्साही कार्यकर्ता के रूप में कांग्रेस में पहचान बनाना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे उन्हें कांग्रेस के पंजाब प्रांत का सामान्य प्रतिनिधि माना जाने लगा।

1906 में, उन्हें कांग्रेस द्वारा गोपालकृष्ण के साथ जाने वाले प्रतिनिधिमंडल का सदस्य बनाया गया था। यह संगठन में उनके बढ़ते कद का प्रतिबिंब बन गया। कांग्रेस में उनके विचारों ने उथल-पुथल मचा दी। बाल गंगाधर तिलक और विपिन चंद्र पाल के अलावा वे तीसरे ऐसे नेता थे, जो कांग्रेस को अंग्रेजों की पिछली संस्था की भूमिका से ऊपर उठाना चाहते थे।

लाला लाजपत राय मांडले जेल यात्रा (Lala Lajpat Rai Jail)

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  कांग्रेस में ब्रिटिश सरकार के विरोध के कारण वे ब्रिटिश सरकार की नजरों में आने लगे। अंग्रेज चाहते थे कि उन्हें कांग्रेस से अलग कर दिया जाए, लेकिन उनके कद और लोकप्रियता को देखते हुए ऐसा करना आसान नहीं था।

1907 में लाला लाजपत राय के नेतृत्व में किसानों ने ब्रिटिश सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू किया। ब्रिटिश सरकार ऐसे ही मौके की तलाश में थी और उन्होंने न सिर्फ लालाजी को गिरफ्तार कर लिया, बल्कि उन्हें देश से निकालकर बर्मा की मांडले जेल में कैद कर दिया गया, लेकिन सरकार का दांव उल्टा पड़ गया और लोग सड़कों पर उतर आए। दबाव में आकर ब्रिटिश सरकार को फैसला वापस लेना पड़ा और लाला जी एक बार फिर अपने लोगों के बीच वापस आ गए।

लाला लाजपत राय कांग्रेस से अलगाव और होमरूल लीग (Lala Lajpat Rai Homerule)

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  1907 तक कांग्रेस का एक धड़ा लाला जी के विचारों से पूरी तरह असहमत नजर आ रहा था। लाला जी उस गरम पार्टी का हिस्सा माने जाते थे जो ब्रिटिश सरकार से लड़कर पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करना चाहती थी। इस पूर्ण स्वराज को अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम और प्रथम विश्व युद्ध ने मजबूत किया और लाला जी भारत में एनी बेसेंट के साथ गृह शासन के मुख्य वक्ता के रूप में उभरे। जलियांवाला बाग की घटना ने उन्हें ब्रिटिश सरकार से और अधिक असंतुष्ट बना दिया। इस बीच कांग्रेस में महात्मा गांधी का उदय हो चुका था और गांधी अंतरराष्ट्रीय मंच पर स्थापित हो चुके थे।

1920 में, उन्होंने गांधी द्वारा शुरू किए गए असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन स्वास्थ्य बिगड़ने के बाद रिहा कर दिया गया था। इस बीच कांग्रेस के साथ उनके संबंध लगातार बिगड़ते चले गए और 1924 में वे कांग्रेस छोड़कर स्वराज पार्टी में शामिल हो गए और केंद्रीय असेंबली के सदस्य चुने गए। यहां भी जल्द ही उनके होश उड़ गए और उन्होंने नेशनलिस्ट पार्टी का गठन किया और एक बार फिर विधानसभा का हिस्सा बने.

लाला लाजपत राय का नाम ‘साइमन गो बैक’ और दुखद मृत्यु (Lala Lajpat Rai Slogan and Death Truth)

Lala Lajpat Rai Biography Jayanti:  एक बड़ी घटना तब हुई जब गांधी ने भारतीयों से बात करने आए साइमन कमीशन का विरोध करने का फैसला किया। साइमन कमीशन जहां-जहां गया, वहां साइमन गो बैक के नारे लगे। जब आयोग 30 अक्टूबर 1928 को लाहौर पहुंचा, तो लाला लाजपत राय के नेतृत्व में एक समूह साइमन गो बैक के नारे लगाकर शांतिपूर्वक अपना विरोध दर्ज करा रहा था। तभी ब्रिटिश पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया और एक युवा अंग्रेज अधिकारी ने लालाजी के सिर पर वार कर दिया। लाला जी ने कहा- मेरे शरीर पर पड़ी हर छड़ी ब्रिटिश साम्राज्य के ताबूत में कील की तरह काम करेगी।

लाला लाजपत राय की मृत्यु सिर में चोट लगने के कारण हुई। उनकी मौत से पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई थी। इसी गुस्से के फलस्वरूप भगत सिंह, शिवराम राजगुरु और सुखदेव थापर ने अंग्रेज पुलिस अधिकारी सांडर्स की हत्या कर दी और खुद को फांसी लगा ली। लाला लाजपत राय भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के उन सेनानियों में से एक थे जिन्होंने देश को अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया। उनका जीवन महान पीड़ा और संघर्ष की गाथा है, जिसे आने वाली पीढ़ियां युगों-युगों तक बताती और सुनती रहेंगी।

निष्कर्ष – Lala Lajpat Rai Biography Jayanti

इस तरह से आप अपना Lala Lajpat Rai Biography Jayanti में आवेदन कर सकते हैं, अगर आपको इससे संबंधित और भी कोई जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं |

दोस्तों यह थी आज की Lala Lajpat Rai Biography Jayanti के बारें में सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में आपको Lala Lajpat Rai Biography Jayanti , इसकी सम्पूर्ण जानकारी बताने कोशिश की गयी है |

ताकि आपके Lala Lajpat Rai Biography Jayanti से जुडी जितने भी सारे सवालो है, उन सारे सवालो का जवाब इस आर्टिकल में मिल सके |

तो दोस्तों कैसी लगी आज की यह जानकारी, आप हमें Comment box में बताना ना भूले, और यदि इस आर्टिकल से जुडी आपके पास कोई सवाल या किसी प्रकार का सुझाव हो तो हमें जरुर बताएं |

और इस पोस्ट से मिलने वाली जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी Social Media Sites जैसे- Facebook, twitter पर ज़रुर शेयर करें |

ताकि उन लोगो तक भी यह जानकारी पहुच सके जिन्हें Lala Lajpat Rai Biography Jayanti की जानकारी का लाभ उन्हें भी मिल सके|

Source:- Internet

Home PageClick here
Join telegramclick here

FAQ

लाला लाजपत राय को किस नाम से जाना जाता है?
लाला लाजपत राय को पंजाब केसरी के नाम से भी जाना जाता है।

सवाल: लाला लाजपत राय ने कौन सा नारा दिया था?
उत्तर: लाला लाजपत राय ने ‘अंग्रेजों के पास वापस जाओ’ का नारा दिया था।

प्रश्न: लाला लाजपत राय किस घटना में घायल हुए थे?
उत्तर: 30 अक्टूबर, 1928 को एक विशाल प्रदर्शन के दौरान वह घायल हो गए थे।

लाला लाजपत राय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष कब बने?
1920 में लाला लाजपत राय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए।

सवाल: लाला लाजपत राय के समय किसानों ने कब विरोध शुरू किया?
3 फरवरी, 1928 को लाला लाजपत राय के नेतृत्व में किसानों ने आंदोलन शुरू किया।

x
कर्जदारों को मिलेगी बड़ी राहत, अब इन लोगों का लोन होगा माफ, जाने कौन कौन होंगे लाभार्थी आंगनवाड़ी सुपरवाइजर भर्ती के लिए आवेदन शुरू,जाने आवेदन की अंतिम तिथि ₹ 2 लाख रुपय वाली की सेलेक्शन लिस्ट जारी, फटाफट ऐसे करें सेलेक्शन लिस्ट मे अपना नाम चेक SSC ने लागू किया वन टाइम रजिस्ट्रेशन, अब उम्मीदवारों को करना होगा अपना OTR Registration और जाने पूरी जानकारी हमारे वेबसाइट पर 28 फरवरी को जारी होगी 16वीं किस्त, नहीं किया ये काम तो नहीं मिलेगा 2000 रुपया