Mughal History 2023 : क्या मुगलों के जमाने में मनाया जाता था रक्षाबंधन? अकबर-जहांगीर को कौन बांधता था राखी?

Mughal History: क्या मुगलों के जमाने में मनाया जाता था रक्षाबंधन? अकबर-जहांगीर को कौन बांधता था राखी?

Mughal History : हुमायूँ पहला मुगल बादशाह था जिसने रक्षाबंधन का त्यौहार मनाना शुरू किया था, अकबर और जहाँगीर के समय में भी राजदरबार में रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाने लगा, शाहजहाँ के समय में इसमें कमी आई और औरंगज़ेब ने मुग़ल दरबार में रक्षाबंधन मनाने का निश्चय किया। परंपरा स्वयं समाप्त हो गई थी

Mughal History : मुगल इतिहास में राजपूत रानी कर्णावती की ओर से सम्राट हुमायूं को राखी भेजने का उल्लेख मिलता है। कहा जाता है कि हुमायूं ने राजपूत बहन की राखी की लाज रखी थी। हुमायूं के चित्तौड़गढ़ पहुंचने से पहले रानी कर्णावती ने जौहर किया था, लेकिन हुमायूं ने चित्तौड़गढ़ के दुश्मन बहादुर शाह को युद्ध में हराकर किले को आजादी दिला दी।

इतिहासकारों का मानना है कि मुगल साम्राज्य में रक्षा बंधन हुमायूं आई राजपूत रानी कर्णावती की उस राखी के साथ मनाया जाता था। हुमायूं ही नहीं बल्कि बादशाह अकबर और तब मुगल बादशाह जहांगीर ने भी रक्षाबंधन बड़े धूमधाम से मनाया था और कलाई पर राखी भी बांधी थी।

Mughal History
Mughal History

रक्षाबंधन पर ऐसे बीतता था अकबर का दिन

Mughal History : अपने पिता हुमायूं की तरह अकबर भी रक्षाबंधन का त्योहार मनाते थे। इसका पहला कारण अकबर का राजपूत परिवार से संबंध था और दूसरा कारण यह था कि अकबर के दरबार में कई दरबारी हिंदू थे जाने-माने इतिहासकार इरफान हबीब ने अपनी किताब में इस बात का जिक्र किया है कि अबकर ने रक्षा बंधन के दिन दरबार में राखी बांधने की परंपरा शुरू की थी। अकबर को राखी बांधने के लिए इतने लोग आते थे कि पूरा दिन राखी बांधने में ही निकल जाता था.

जहांगीर बंधवाता था आम लोगों से राखी

Mughal History : जहांगीर ने अकबर की ओर से दरबार में राखी बांधने की परंपरा को भी आगे बढ़ाया। खास बात यह थी कि अकबर सिर्फ दरबारियों के परिवार वालों को ही राखी बांधते थे, जबकि जहांगीर ने आम लोगों को भी राखी बांधने की परंपरा शुरू की थी। इस काल में अकबर के समय की तरह ही राजदरबार में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाने लगा

औरंगजेब ने लगा दी थी त्योहार मनाने पर पाबंदी

Mughal History : जहाँगीर के बाद शाहजहाँ के समय में दरबार में रक्षाबंधन मनाने की परंपरा कम हो गई। औरंगजेब के शासनकाल में इस पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया था। 8 अप्रैल, 1969 को औरंगजेब ने एक आदेश जारी कर सभी हिंदू त्योहारों को मनाने पर प्रतिबंध लगा दिया। यह आदेश उस समय औरंगजेब द्वारा शासित सभी 21 प्रांतों पर लागू था औरंगजेब के दरबार से जुड़े साकी मुस्त खान ने मसीर-ए-आलमगिरी में इस आदेश का जिक्र किया है।

निष्कर्ष – Mughal History 2023

इस तरह से आप अपना Mughal History   से संबंधित और भी कोई जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं |

दोस्तों यह थी आज की Mughal History  के बारें में सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में आपको इसकी सम्पूर्ण जानकारी बताने कोशिश की गयी है|

ताकि आपके Mughal History  से जुडी जितने भी सारे सवालो है, उन सारे सवालो का जवाब इस आर्टिकल में मिल सक

तो दोस्तों कैसी लगी आज की यह जानकारी, आप हमें Comment box में बताना ना भूले, और यदि इस आर्टिकल से जुडी आपके पास कोई सवाल या किसी प्रकार का सुझाव हो तो हमें जरुर बताएं |

और इस पोस्ट से मिलने वाली जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी Social Media Sites जैसे- Facebook, twitter पर ज़रुर शेयर करें |

ताकि उन लोगो तक भी यह जानकारी पहुच सके जिन्हें Mughal History  की जानकारी का लाभ उन्हें भी मिल सके|

Source:- Internet

Home Pagenew
Click Here
Join TelegramnewClick Here

 

x
मात्र 22000 में लॉन्च हुई 81KM माइलेज वाली Hero Splendor Plus की ब्रांडेड फीचर्स वाली बाइक 1 अप्रैल से बढ़ेगी गैस सब्सिडी की ₹ 300 रुपय, जाने क्या है करोड़ो लोगों को फायदा अब तक का सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन 2 अप्रैल को होगा भारत में लॉन्च एयरटेल-गूगल देंगे स्टारलिंक को टक्कर, कैसे काम करता है लेजर इंटरनेट, क्या होगी स्पीड पटना यूनिवर्सिटी मे 1 साल फिर से प्रवेश परीक्षा पर होगा दाखिला, जाने क्या पूरी रिपोर्ट